Latest mukhya khabar national

बुलंदशहर मामला: खुफ़िया एजेंसी की रिपोर्ट में बड़ा खुलासा, योगेश राज कहां था?

बुलंदशहर

3 दिसंबर को बुलंदशहर के स्याना थाना के खेत में मिले कथित गोवंश के टुकड़े के बाद हुए बवाल में जांच कर रहीं खुफिया एजेंसी की रिपोर्ट में कई खुलासे हुए हैं। जिसमें मिनट दर मिनट बताया गया है कि घटना के वक्त योगेश कहां था और क्या कर रहा था।

दैनिक जागरण के वेब पोर्टल में छपी एक ख़बर के अनुसार एडीजी इंटेलीजेंस एसबी शिराड़कर की रिपोर्ट के अनुसार योगेश राज की तरफ से थाना स्याना में एफआइआर 12:43 मिनट पर दर्ज की गई। योगेश राज को एफआइआर की कॉपी 12:50 पर दे दी गई। स्याना थाने के मुंशियों ने उच्चाधिकारियों को दिए बयानों में कहा है कि 12:50 पर ही योगेश थाने से निकल गया। झगड़ा एक बजे शुरू हुआ और करीब 1:35 मिनट पर इंस्पेक्टर को गोली मारी गई।

लेकिन यहां समझने वाली बात ये हैं कि जिस जगह ये घटना घटित हुई वो थाने से 11 किलोमीटर बताई जा रही है। ऐसे में सवाल ये उठता है कि क्या मात्र 45 मिनट में योगी घटना वाली जगह पर पहुंच गया?

हालांकि, पुलिस अधिकारी यही बोल रहे हैं कि योगेश थाने से निकलकर सीधे घटनास्थल पर पहुंचा और लोगों को भड़काया।

इधर, विभिन्न टीवी चैनलों पर चलते योगेश के परिजनों के अनुसार योगश अपना एलएलबी का का पेपर देने किए जाने वाला था उस वक्त किसी का फोन आया कि पास के गांव में 50 गायों को मार दिया गया। जब घटना स्थल पर योगेश पहुंचा इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की गोली से एक युवक की मौत हो गई थी। परिजनों का दावा है कि योगेश को फंसाने के लिए इंस्पेक्टर ने खुद को ही गोली मारी है।

इधर, रिपोर्ट में एक खुलासा और हुआ है। इंटेलीजेंस की रिपोर्ट में सामने आया है कि छह युवक घटनास्थल से करीब 500 मीटर दूर बैठे थे। इन सभी युवकों के चेहरे पर नकाब था। ताकि उन्हें कोई पहचान ना सके। इसलिए रिपोर्ट में इन युवकों के नाम नहीं दिए गए हैं। अनुमान है कि यही छह युवक पूरे घटनाक्रम के साजिशकर्ता हो सकते हैं। इनकी तलाश की जा रही है।

खुफिया विभाग की इस रिपोर्ट से कहीं न कहीं ये साबित हो रहा है कि इस घटना के पीछे एक बहुत बड़ी साजिश है। अब पता सिर्फ इस बात का लगाना है कि इतनी बड़ी साजिश को अंजाम किसने और क्यों दिया और उनका मकसद क्या था।