Latest mukhya khabar national Politics Politics

2019 के लिए बीजेपी को मिल गया ‘मिशेल ब्रह्मास्त्र’, चल सकती है बड़ी राजनीतिक चाल

मिशेल

अगस्ता वेस्टलैंड मामले के बिचौलिये   भारत पहुंच गया है जिसे पहले बुधवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। जिसके बाद भारत की जांच एजेंसिंयां उससे पूछताछ करेंगा। उम्मीद जताई जा रही है कि मशेल अगस्ता डीस मामले में कई अहम खुलासे कर सकता है।

वहीं माना जा रहा है कि राफ़ेल डील को लेकर अब तक बैकफुट पर रह कर अपने पैर घसीट रही भारतीय जनता पार्टी अब कांग्रेस के खिलाफ़ उग्र तेवर अपना सकती है। यही नहीं कहा तो ये भी जा रहा है कि बीजेपी 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की ‘घोटालेबाज़’ छवि को वैसे ही यथा संभव रखना चाहती है जैसे 2014 चुनाव में की गई थी।

आपको बता दें कि क्रिश्चियन मिशेल वही शख्स है जिसने अगस्ता वेस्टलैंड की ख़रीद के लिए बिचौलिए का काम किया था। मिशेल ने कुछ लोगो इस डील के दौरान घूस दी थी जिसके नाम उसने कोड वर्ड में लिखे थे उसका खुलासा यही कर सकता है। यूएई की सुरक्षा एजेंसियों ने फरवरी 2017 में मिशेल को गिरफ्तार किया था और इसके बाद से ही उसके प्रत्यर्पण की कोशिशें चल रही थीं। मिशेल को भारत प्रत्यर्पित कराने के लिए भारतीय एजेंसियों सीबीआई एवं प्रवर्तन निदेशालय ने यूएई का कई बार दौरा किया। इस दौरान एजेंसियों ने यूएई के अधिकारियों एवं न्यायालय के साथ घोटाले से जुड़े आरोपपत्र, गवाहों के बयान और अन्य साक्ष्य एवं दस्तावेज साझा किए थे।

ये है अगस्ता वेस्टलैंड मामला

दरअसल साल 2010 यानि कि यूपीए-1 सरकार के समय अगस्ता वेस्टलैंड से वीवीआईपी के लिए 12 हेलिकॉप्टरों की खरीद का सौदा हुआ था। यह सौदा 3,600 करोड़ रुपए का था। इसमें 360 करोड़ रुपए की रिश्वतखोरी की बात सामने आई जिसके बाद यूपीए सरकार ने सौदा रद्द कर दिया। इस मामले में एसपी त्यागी सहित 13 लोगों पर केस दर्ज किया गया था। जिस बैठक में हेलिकॉप्टर की कीमत तय की गई थी, उसमें यूपीए सरकार के कुछ मंत्री भी मौजूद थे। इस कारण कांग्रेस पर भी सवाल उठे थे। इस फैसले में कांग्रेस के कई नेताओं के नाम भी लिए हैं। हालांकि कुछ इस मामले में बिचौलिए रहे क्रिश्चियन मिशेल ने कुछ नामों का जिक्र कोड वर्ड में किया था, लेकिन वो कोडवर्ड क्या था और उनका मतलब क्या था उसके बारे में जानकारी मिशेल ही दे सकता है जिससे अब भारतीय जांच एजेंसियां पूछताछ करेंगी।

कौन हैं एसपी त्यागी?

हेलीकॉप्टर घोटाले में शक के दायरे में आए एसपी त्यागी का पूरा नाम शशींद्र पाल त्यागी है। एसपी त्यागी का जन्म 14 मार्च 1945 को मध्यप्रदेश के इंदौर में हुआ था। इन्होंने अपनी शुरुआती पढ़ाई जयपुर के सेंट जेवियर स्कूल से की थी। 31 दिसंबर 1963 को एस पी त्यागी भारतीय वायु सेना में शामिल हुए। त्यागी ने 1965 और 1971 की जंग में भी शिरकत की है। जब सन 1980 में जगुआर भारतीय वायु सेना में शामिल किया गया तो उस दौरान त्यागी का नाम भी उसे उड़ाने वाले आठ पायलटों में शामिल था। 1985 में उन्हें प्रतिष्ठित वायुसेना मेडल से नवाजा गया था। 31 दिसंबर 2004 को एसपी त्यागी ने भारतीय वायुसेना के 20वें एयर चीफ मार्शल के रूप में कार्यभार संभाला।

मिशेल

अगस्ता हेलिकॉप्टर की खासियत

  1. मजबूत एयरफ्रेम।
  2. इसमें तीन मजबूत इंजन लगे हैं।
  3. इसमें 10 वीवीआईपी पैसेंजर को बिठाने का इंतजाम है।
  4. इसमें 360 डिग्री का सर्विलांस रडार लगा है।
  5. इसमें आत्मरक्षा सूट भी है।
  6. इसमें रीट्रेक्टेबल लैंडिंग गियर भी लगे हैं।
  7. हाई टेल बूम के जरिए वीवीआईपी की कारें सीधे पिछले एक्जिट तक आ सकती हैं।
  8. हेलीकॉप्टर की लंबाई 74.92 फुट है।
  9. इसकी ऊंचाई 21.83 फुट है।
  10. इसकी गति 278 किलोमीटर प्रति घंटा है।
  11. इसकी रेंज 1,390 किलोमीटर है.12. इसका डायमीटर 61 फुट है।

बहरहाल, इस सबसे माना जा रहा है कि 2019 के लोकसभा चुनावों के मुहाने पर खड़े भारत को मोदी सरकार अगस्ता को चुनावी हथियार बना ले और कांग्रेस के खिलाफ इसे एक अस्त्र के रूप में इस्तेमाल करे। क्योंकि अगस्ता वेस्टलैंड मामले में इस बिचौलिये की मदद से कई खुलासे हो सकते हैं। जिसमें कहीं न कहीं कांग्रेस के कई बड़े नाम शामिल हो सकते हैं। जिससे कांग्रेस की छवि पर बट्टा लगने के आसार ज्यादा दिखाई दे रहे हैं।