BSP Latest mukhya khabar national

LIVE: मायावती- अखिलेश की प्रैस वार्ता, देखें गठबंधन में किसको मिली कितनी सीट

मायावती- अखिलेश

लोकसभा चुनाव में बस अब 100 दिन से भी कम का समय शेष रह रह गया है। ऐसे में सभी राजनीतिक जनता को अपनी ओर आकृषित करने और विपक्षी पार्टी को घेरने के लिए चक्रव्यूह तैयार करने में लगे हैं। ठीक इसी तरह देश का सबसे बड़ा राजनीति का प्रदेश माने जाने वाले उत्तर प्रदेश में भी राजनीतिक हलचल तेज़ हो गई है।

आपको बता दें कि इस साल होने वाले लोकसभा चुनाव में मोदी के विजय रथ को रोकने के लिए शनिवार को सूबे की दो सबसे बड़ी पार्टियां एक साथ एक मंच प नज़र आयेंगी। जिस पर पूरे देश की निगाहें बनी हुई हैं।

दरअसल, लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र उत्तर प्रदेश के कभी दो सियासी धड़े कहे जाने वाले समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच गधबंधन हो गया है। जिसकी औपचारिक घोषड़ा कुछ ही देर में दोनों पार्टियों की साझा प्रैसवार्ता में हो जायेगा।

एक अनुमान के अनुसार इस गठबंधन के मुताबिक़ बीएसपी को सबसे अधिक सीट 38 देने की संभावना है तो वहीं 36 सीट समाजवादी पार्टी अपने पास रखेगी। बाकी बची सीटें अन्य छोटे दल यानि आरएलडी 3 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। सपा अपने कोटे से निषाद पार्टी और पीस पार्टी को एक-एक सीट देगी। निषाद पार्टी गोरखपुर की सीट से चुनाव लड़ेगी और पीस पार्टी को खलीलाबाद लोकसभा सीट दिया जाएगा। इसके अलावा महागठबंधन की ओर से दो सीटों रायबरेली और अमेठी पर प्रत्याशी नहीं उतारा जाएगा। अगर ओम प्रकाश राजभर एनडीए छोड़कर आते हैं तो सपा उन्हें भी अपने कोटे से दो सीट देगी।

1993 में भी हुआ था गठबंधन

आपको बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं जब बीएसपी और सपा एक साथ एक मंच पर आये हों। इससे पहले  1993 में मुलायम-कांशीराम की जोड़ी ने बीजेपी को पटखनी दी थी। अब 2019 में बीजेपी को हराने के लिए अखिलेश-मायावती की जोड़ी तैयार है। राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि 2019 में 1993 जैसे हालात नहीं है। यही वजह है कि माया-अखिलेश वाले इस गठबंधन के लिए 25 साल पहले जैसे नतीजे दोहराना बड़ी चुनौती माना जा रहा है।

  • प्रैसवार्ता में पहुंचे अखिलेश यादव और मायावती
  • LIVE:
    • नरेन्द्र मोदी और अमित शाह की नींद उड़ाने वाली प्रैसवार्ता : मायावती
    • गुरु चेले की नींद उड़ाने की प्रैसवार्ता : मायावती
    • 1993 में सपा-बसपा के बीच हुआ था गठबंधन: मायावती
    • पुरानी बातों को भुलाते हुए एक बार फिर गंठबंधन करने का फैसला लिया है: मायावती
    • कांग्रेस घोटालों में घिरी सरकार रही है इस लिए उसे इस गठबंधन में शामिल नही किया
    • बीजेपी के राज में अघोषित इमर्जेंसी लगी हुई है: मायावती
    • बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि यूपी में बीजेपी ने बेइमानी से सरकार बनाई है। जनविरोधी को सत्ता में आने से रोकेंगे। बीजेपी की अहंकारी सरकार से लोग परेशान है। जैसे हमने मिलकर उपचुनावों में बीजेपी को हराया है, उसी तरह हम लोकसभा चुनाव में बीजेपी को हराएंगे।