Sports

55 साल बाद फुटबॉल में भारत ने रचा इतिहास

भारतीय फुटबॉल टीम ने 55 साल बाद एशियाई कप में इतिहास रच दिया। भारतीय फुटबॉल में ‘गोल मशीन’ के नाम से मशहूर सुनील छेत्री ने दो गोल की मदद से थाईलैंड को 4-1 से हराकर 1964 के बाद एएफसी एशियाई कप में पहली जीत दर्ज की। सुनील छेत्री का यह दूसरा एशियाई कप है और 105वां मैच। छेत्री ने 27वें मिनट में पेनल्टी के जरिये और 46वें मिनट में दूसरा गोल किया। 

इन दो गोल की मदद से छेत्री अर्जेंटीना के सुपरस्टार लियोनल मेसी को पछाड़ने में सफल रहे। अब भारतीय टीम अरब अमीराज और बहरीन के खिलाफ होने वाले आगामी दो मुकाबलों में ड्रॉ खेलकर भी नॉकआउट दौर में जगह बना सकती है।

गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू इस हाफ में प्रतिद्वंद्वी गोलकीपर से ज्यादा व्यस्त नजर आए। लेकिन दूसरे हाफ में मैच का परिदृश्य पूरी तरह बदल गया, जिसमें भारत ने शानदार तरीके से तीन गोल दागे और थाईलैंड से मैच छीन लिया।

छेत्री एकमात्र खिलाड़ी हैं जो 2011 में खेलने वाली टीम का हिस्सा थे। वह एशियाई कप में भारत की ओर से सर्वाधिक गोल करने वाले खिलाड़ी भी बन गए, इससे उन्होंने इंदर सिंह को पछाड़ा, जिन्होंने 1964 के चरण में दो गोल दागे थे, जिसमें भारत उपविजेता रहा था। अपने चौथे एशियाई कप में भाग ले रही भारतीय टीम की यह 11 मैचों में तीसरी जीत थी।