Latest Sports

भारतीय क्रिकेट टीम के मिस्टर रेलायबल रहे राहुल द्रविड़ के नाम है इतने रिकार्ड्स

भारतीय क्रिकेट टीम के वॉल कहे जाने महान एक्स बल्लेबाज़ राहुल द्रविड़ आज 46 साल के हुए। इंदौर में जन्मे राहुल ने महज़ 12 साल की उम्र से ही क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था। 
उन्होंने अपना डेब्यू साल 1996 में श्री लंका के खिलाफ किया था। इस मैच में कर्नाटक के इस बल्लेबाज़ ने ऐसा जलवा बिखेरा की उन्हें मिस्टर रिलायबल और दीवार नाम दिया गया।

राहुल द्रविड़ के नाम टेस्ट क्रिकेट खेलने वाली सभी टीमों के विरुद्ध शतक लगाने का रिकॉर्ड भी दर्ज है।
राहुल द्रविड़ को क्रिकेट का जेंटलमैन कहा जाता है। ये वो खिलाड़ी रहे हैं जिन्होंने टीम के मुश्किल सिचुएशन में विरोधी टीम के सामने डट कर खड़े रहे और मैच जीतवाने का काम किया।

द्रविड़ अपने मज़बूत डिफेन्स के लिए जाने जाते हैं। जब वो बल्लेबाज़ी कर रहे हो तो तमाम गेंदबाज़ उनका विकेट लेने की छह रखते थे।
टीम में तीसरे नंबर पर बल्लेबाज़ी करते हुए द्रविड़ ने टेस्ट और वन डे मैचेस में अपने करियर की सर्वोत्तम पारियां खेली हैं।
उनके नाम इंडियन क्रिकेट के हिस्ट्री में सबसे ज्यादा साढ़े बारह घंटे की मैराथन पारी खेलना का रिकॉर्ड भी दर्ज है। हालंकि अपने डेब्यू मैच में उन्होंने कुछ ख़ास प्रदर्शन नहीं किया था।
राहुल द्रविड़ ने कुल 164 टेस्ट में 52.31  के औसत से कुल 13  हज़ार 288  रन बनाये। इसमें 36 शतक और 63  अर्धशतक है।
उसी तरह द्रविड़ ने 344 वन डे मैचों में द्रविड़ ने 39 . 16 की औसत से 10  हज़ार 889 रन बनाये हैं। इसमें कुल 12  शतक और 83 अर्धशतक  हैं।
साल 2000  में उन्हें विजडन क्रिकेटर्स में साल के टॉप 5  क्रिकेटर्स में शामिल किया था।
 2004  में राहुल द्रविड़ को आईसीसी के बेस्ट टेस्ट क्रिकेटर के अवार्ड से भी सम्मानित किया गया है।
वही दिसंबर 2011  में उन्हें कैनबेरा में ब्रैडमैन ओरेशन दिया गया था और ऐसा पहली बार किसी गैर ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर के साथ हुआ।
राहुल द्रविड़ को अर्जुन अवार्ड पद्मा श्री और पद्मा भूषण जैसे सम्मानों से भी नवाज़ा गया है।
भले ही उन्होंने क्रिकेट से रेटायर्मेंट ले ली हो मगर अपने फैंस के दिल में हमेशा उनकी जगह ख़ास रहेगी।

Sports Desk