dharam infotainment

Ramayana-आख़िर 6 महीने तक क्यों सोता रहता था कुम्भकर्ण?

कुम्भकर्ण रामाय़ण ग्रंथ का एक अहम किरदार है… रामायण के अनुसार कुम्भकर्ण खाने और सोने का बेहद शौकीन था, यहीं वजह थी कि वो  लगातार 6 महीने सोता था और सिर्फ एक दिन खाने के लिए उठता था। दरअसल, कुम्भकर्ण के लगातार 6 महीने सोने के पीछे एक किस्सा है। 

एक बार एक यज्ञ की समाप्ति पर परमपिता ब्रह्मा कुम्भकर्ण के सामने प्रकट हुए और उन्होंने कुम्भकर्ण से वरदान मांगने को कहा. इन्द्र को इस बात से डर लगा कि कहीं कुम्भकर्ण वरदान में इन्द्रासन न मांग ले, अतः उन्होंने देवी सरस्वती से अनुरोध किया कि वह कुम्भकर्ण की जिह्वा पर बैठ जाएं जिससे वह “इन्द्रासन” के बदले “निद्रासन” मांग ले। इन्द्र की इसी योजना की बदौलत कुम्भकर्ण ने ब्रह्मा जी से वरदान मांगा तो उसके मुख से “इन्द्रासन” की जगह निंद्रासन निकल गया और परमपिता ब्रह्मा ने तथास्तु कह कुम्भकर्ण की इच्छा पूर्ती की।

Infotainment Desk